FB २६०४ - 2604 - " प्रिये शेष बहुत है रात अभी मत जाओ " ~ बच्चन कवि के विचार , और उनकी विचार धारा , अपार

An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

Let's Connect

sm2p0