FB 2324 -' जीवन का सत्य और शब्द का सत्य , अलग अलग इकाइयाँ हैं । संसार का सारा साहित्य , जो शब्द का साहित्य है , जीवन को पकड़ने का एक बहुत निर्बल और निष्फल प्रयास है । जीवन के सत्य और शब्द के सत्य में कोई साम्य नहीं है । जो चीज़ रक्त से लिखी जाती है , वो स्याही से लिखी जा सकती है ?' ~ हरिवंश राय बच्चन बाबूजी की आत्मकथा से मिले कुछ वाक्य the truth of life , and the truth of words are different elements .. the entire literature of the world, which is the literature of words, shall ever be looked upon as a weak and fruitless endeavour .. there is no similarity or equal -ness between the truth of life and the truth of the word .. That which is written in blood, can that be written or expressed with writing ink ?? ~ an extract from my Father's autobiography Translate Tweet

An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

FB 2324 -' जीवन का सत्य और शब्द का सत्य , अलग अलग इकाइयाँ हैं । संसार का सारा साहित्य , जो शब्द का साहित्य है , जीवन को पकड़ने का एक बहुत निर्बल और निष्फल प्रयास है । जीवन के सत्य और शब्द के सत्य में कोई साम्य नहीं है । जो चीज़ रक्त से लिखी जाती है , वो स्याही से लिखी जा सकती है ?' ~ हरिवंश राय बच्चन बाबूजी की आत्मकथा से मिले कुछ वाक्य the truth of life , and the truth of words are different elements .. the entire literature of the world, which is the literature of words, shall ever be looked upon as a weak and fruitless endeavour .. there is no similarity or equal -ness between the truth of life and the truth of the word .. That which is written in blood, can that be written or expressed with writing ink ?? ~ an extract from my Father's autobiography Translate Tweet

Let's Connect

sm2p0