FB 2169 - from Rekhta Ef : "हम समझते हैं आज़माने को उज़्र कुछ चाहिए सताने को " ~मोमिन ख़ाँ मोमिन ** from Vikas Bansal Ef : "क्या होगी बात अब, नया क्या उज़र होगा देखना है बस ये कि कब तक हमसे सबर होगा " ~ विकास बंसलकवि महाशय विकास Ef

An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

FB 2169 - from Rekhta Ef : "हम समझते हैं आज़माने को उज़्र कुछ चाहिए सताने को " ~मोमिन ख़ाँ मोमिन ** from Vikas Bansal Ef : "क्या होगी बात अब, नया क्या उज़र होगा देखना है बस ये कि कब तक हमसे सबर होगा " ~ विकास बंसलकवि महाशय विकास Ef

Let's Connect

sm2p0