FB 1921 - *नाम्भोधिरर्थितामेति सदाम्भोभिश्च पूर्यते ।* *आत्मा तु पात्रतां नेय: पात्रमायान्ति संपद: ॥* *भावार्थ -* *सागर कभी जल के लिए भिक्षा नही मांगता फिर भी वह सदैव जल से भरा रहता है । वह सन्देश देता है कि यदि हम अपने आप को योग्य बना लें तो संसार के सब साधन स्वयं ही हमारे पास आ सकते हैं ।* 🙏🌹सादर प्रणाम🌹🙏

An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

Amitabh Bachchan, An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

FB 1921 - *नाम्भोधिरर्थितामेति सदाम्भोभिश्च पूर्यते ।*
*आत्मा तु पात्रतां नेय: पात्रमायान्ति संपद: ॥*

*भावार्थ -* *सागर कभी जल के लिए भिक्षा नही मांगता फिर भी वह सदैव जल से भरा रहता है । वह सन्देश देता है कि यदि हम अपने आप को योग्य बना लें तो संसार के सब साधन स्वयं ही हमारे पास आ सकते हैं ।*

🙏🌹सादर प्रणाम🌹🙏

FB 1921 - *नाम्भोधिरर्थितामेति सदाम्भोभिश्च पूर्यते ।* *आत्मा तु पात्रतां नेय: पात्रमायान्ति संपद: ॥* *भावार्थ -* *सागर कभी जल के लिए भिक्षा नही मांगता फिर भी वह सदैव जल से भरा रहता है । वह सन्देश देता है कि यदि हम अपने आप को योग्य बना लें तो संसार के सब साधन स्वयं ही हमारे पास आ सकते हैं ।* 🙏🌹सादर प्रणाम🌹🙏

Let's Connect

sm2p0