FB 1902 - चाणक्य निति- परोक्षे कार्यहंतारम प्रत्यक्षे प्रियवादिनम्। वर्जयेत्तादृशं मित्रं विषकुंभ पयोमुखम्। भावार्थ - जो पीठ पीछे आप के कार्य को बिगाड़े और सामने होने पर मीठी-मीठी बातें करे ऐसे मित्र को उस घड़े के समान त्याग देना चाहिये जिसके मुँह के उपर तो दूध हो पर भीतर विष भरा हुआ हो। 🌹🙏प्रणाम🙏🌹 they that spoil your work behind your back, and sweet talk when in front of you .. that vessel should be abandoned which has milk on the top layer, but is filled underneath the rest with vicious poison !!!!

An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

Amitabh Bachchan, An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

FB 1902 - चाणक्य निति-
परोक्षे कार्यहंतारम प्रत्यक्षे प्रियवादिनम्।
वर्जयेत्तादृशं मित्रं विषकुंभ पयोमुखम्।

भावार्थ - जो पीठ पीछे आप के कार्य को बिगाड़े और सामने होने पर मीठी-मीठी बातें करे ऐसे मित्र को उस घड़े के समान त्याग देना चाहिये जिसके मुँह के उपर तो दूध हो पर भीतर विष भरा हुआ हो।
🌹🙏प्रणाम🙏🌹

they that spoil your work behind your back, and sweet talk when in front of you .. that vessel should be abandoned which has milk on the top layer, but is filled underneath the rest with vicious poison !!!!

FB 1902 - चाणक्य निति- परोक्षे कार्यहंतारम प्रत्यक्षे प्रियवादिनम्। वर्जयेत्तादृशं मित्रं विषकुंभ पयोमुखम्। भावार्थ - जो पीठ पीछे आप के कार्य को बिगाड़े और सामने होने पर मीठी-मीठी बातें करे ऐसे मित्र को उस घड़े के समान त्याग देना चाहिये जिसके मुँह के उपर तो दूध हो पर भीतर विष भरा हुआ हो। 🌹🙏प्रणाम🙏🌹 they that spoil your work behind your back, and sweet talk when in front of you .. that vessel should be abandoned which has milk on the top layer, but is filled underneath the rest with vicious poison !!!!

Let's Connect

sm2p0