FB 1790 - A wonderful tale sent by Ef Neer : हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती : राजा दशरथ जब अपने चारों बेटों की बारात लेकर राजा जनक के द्वार पर पहुँचे, तो राजा जनक ने सम्मानपूर्वक बारात का स्वागत किया । तभी दशरथ जी ने आगे बढकर जनक जी के चरण छू लिये । । चौंककर जनक जी ने दशरथ जी को थाम लिया और बोले महाराज आप मुझसे बड़े है, और तो और, वरपक्ष वाले हैं ये उल्टी गंगा कैसे बहा रहे हैं .....? इस पर दशरथ जी ने बड़ी सुंदर बात कही - ‘महाराज आप दाता हो कन्यादान कर रहै हो,मैं तो याचक हूँ आपके द्वार कन्या लेने आया हूँ ,, अब आप ही बताइए दाता और याचक में बड़ा कौन है ? यह सुनकर जनक जी की आँखों मे अश्रुधारा बह निकली..... ।। भाग्यशाली हैं वो लोग जिनके घर में होती हैं बेटियाँ । हर बेटी के भाग्य मे पिता होता है , लेकिन हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती ।।

An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

Amitabh Bachchan, An enigmatic superstar | The Shahenshah of Bollywood

FB 1790 - A wonderful tale sent by Ef Neer :

हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती :

राजा दशरथ जब अपने चारों बेटों की बारात लेकर राजा जनक के द्वार पर पहुँचे, तो राजा जनक ने सम्मानपूर्वक बारात का स्वागत किया ।

तभी दशरथ जी ने आगे बढकर जनक जी के चरण छू लिये ।

चौंककर जनक जी ने दशरथ जी को थाम लिया और बोले महाराज आप मुझसे बड़े है, और तो और, वरपक्ष वाले हैं ये उल्टी गंगा कैसे बहा रहे हैं .....?

इस पर दशरथ जी ने बड़ी सुंदर बात कही -

‘महाराज आप दाता हो कन्यादान कर रहै हो,मैं तो याचक हूँ आपके द्वार कन्या लेने आया हूँ ,,
अब आप ही बताइए दाता और याचक में बड़ा कौन है ?

यह सुनकर जनक जी की आँखों मे अश्रुधारा बह निकली..... ।।
भाग्यशाली हैं वो लोग जिनके घर में होती हैं बेटियाँ ।

हर बेटी के भाग्य मे पिता होता है , लेकिन हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती ।।

FB 1790 - A wonderful tale sent by Ef Neer : हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती : राजा दशरथ जब अपने चारों बेटों की बारात लेकर राजा जनक के द्वार पर पहुँचे, तो राजा जनक ने सम्मानपूर्वक बारात का स्वागत किया । तभी दशरथ जी ने आगे बढकर जनक जी के चरण छू लिये । । चौंककर जनक जी ने दशरथ जी को थाम लिया और बोले महाराज आप मुझसे बड़े है, और तो और, वरपक्ष वाले हैं ये उल्टी गंगा कैसे बहा रहे हैं .....? इस पर दशरथ जी ने बड़ी सुंदर बात कही - ‘महाराज आप दाता हो कन्यादान कर रहै हो,मैं तो याचक हूँ आपके द्वार कन्या लेने आया हूँ ,, अब आप ही बताइए दाता और याचक में बड़ा कौन है ? यह सुनकर जनक जी की आँखों मे अश्रुधारा बह निकली..... ।। भाग्यशाली हैं वो लोग जिनके घर में होती हैं बेटियाँ । हर बेटी के भाग्य मे पिता होता है , लेकिन हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती ।।

Let's Connect

sm2p0